अपना शहर

उत्तराखण्ड राज्य स्थापना दिवस धूमधाम से मना

नैनीताल- उत्तराखण्ड राज्य का 18वां स्थापना दिवस जनपद मे हर्षोउल्लास के साथ मनाया गया। इस अवसर पर जनपद में विशेष कार्यक्रम आयोजित किये गये। प्रातः जू रोड स्थित आन्दोलनकारी शहीद स्मारक पर जिलाधिकारी दीपेन्द्र कुमार चौधरी, किशनलाल साह कौनी,दयाकिशन पोखरिया, डीडी रूवाली, राजीव लोचन साह, मुन्नी तिवारी, अपर जिलाधिकारी बीएल फिरमाल ने पुष्प अर्पित कर श्रद्वांजलि अर्पित की। इसके उपरान्त जनपद में खेल महाकुम्भ का शुभारम्भ मैराथन दौड के साथ हुआ, स्थानीय स्कूल के बच्चों ने पूरे उमंग के साथ नैनीझील के चारो ओर दौड लगाई। दौड का शुभारम्भ जिलाधिकारी दीपेन्द्र कुमार चौधरी द्वारा झंडी दिखाकर किया गया।

फ्लैटस मैदान मंे आयोजित विकास मेले का शुभारम्भ विधायक संजीव आर्य, अध्यक्ष नगर पालिका श्याम नारायण तथा जिलाधिकारी दीपेन्द्र कुमार चौधरी ने संयुक्त रूप से किया। विभिन्न विभागों द्वारा प्रस्तुत शासन की विकास सम्बन्धी योजनाओ पर आधारित प्रदर्शनी का अवलोकन विशिष्टजनांे द्वारा किया गया। मुख्य मंच पर सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग द्वारा प्रकाशित शीर्षक संकल्प से सिद्धि विकास पुस्तिका का विशिष्टजनो द्वारा विमोचन किया गया। विमोचन के उपरान्त विकास पुस्तिका जन साधारण में वितरित की गई। इस अवसर पर स्थानीय विद्यालयों, गीत एवं नाट्य प्रभाग तथा सूचना विभाग से पंजीकृत कुमायू सांस्कृतिक उत्थान समिति के कलाकारो द्वारा कुमाऊंनी गढवाली लोक संगीत एवं लोक नृत्य प्रस्तुत किये। मंच पर मैराथन दौड में विजयी 12 वर्ष गु्रप में बालिका गु्रप मे अजंलि कम्बोज प्रथम द्वितीय गुलजेरा, तृतीय हिमानी विष्ट, बालक गु्रप में लोकेश पुजारी प्रथम, विक्रम ढेला द्वितीय, मोहित विष्ट तृतीय इसी तरह 14 वर्ष ग्रुप में बालिका वर्ग आरती प्रथम, हरषिता द्वितीय, नगमा तृतीय, व 17 वर्ष ग्रुप मे बालक वर्ग में वैभव सिह प्रथम, अभिषेक द्वितीय, राजकुमार तृतीय, बालिका वर्ग में सुप्रिया आर्य प्रथम, प्रिया महरा द्वितीय व साहिबा तृतीय को पुरस्कृत किया गया।

कार्यक्रम मे उपस्थित जनसमुदाय को सम्बोधित करते हुये मुख्य अतिथि संजीव आर्य ने राज्य स्थापना के 17 वर्ष पूर्ण होने पर सभी को हार्दिक बधाई एव ंशुभकामनायें देते हुये कहा कि मै राज्य निर्माण के सभी ज्ञात अज्ञात अमर शहीदों एवं आन्दोलनकारियों को श्रद्वासुमन अर्पित करता हॅू। उन्होने कहा कि विगत 17 वर्षाे मे उत्तराखण्ड ने अन्य राज्यों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन किया है। इस दौरान उत्तराखण्ड ने बहुत सी मंजिले तय की है लेकिन इसके बावजूद भी बहुत कुछ किया जाना जरूरी है। आज राज्य की सकल घरेलू उत्पाद दर राष्ट्रीय दर के बराबर है और राज्य के प्रति व्यक्ति आय राष्टीय औसत की आय से डेढ गुनी से भी अधिक है। आर्थिक सलाहकार परिषद और नीति आयोग द्वारा तैयार किये गये, सूचकांक के अनुसार सामाजिक तरक्की के मामले में उत्तराखण्ड देश का चैथा शीर्ष राज्य है। उन्होने कहा कि प्रदेश के समग्र एवं संतुलित विकास के लिए हम सब को एक जुट होकर विकास कार्य करने होगें। उन्होने दलगत राजनीति से ऊपर उठकर राज्य के विकास में सभी को अपना योगदान देने की अपील की। ताकि प्रदेश में विकास की किरण अन्तिम छोर के व्यक्ति तक पहुंचे।
अपने सम्बोधन में अध्यक्ष नगर पालिका श्याम नारायण ने शहीद आन्दोलनकारियों को श्रद्वांजलि देते हुये कहा कि यह हमारे लिये विशेष गर्व की बात है कि हम उत्तराखण्ड के निवासी है उत्तराखण्ड का प्राकृतिक सौन्दर्य एवं यहा का आध्यात्म विश्व पटल पर स्वीकार्य है। जिसके चलते देश विदेश के पर्यटक चिन्तन एवं प्राकृतिक सौन्दर्य का आन्नद लेने उत्तराखण्ड आते है। जटिल भागौलिक परिदृष्य वाले प्रदेश को और अधिक विकास की आवश्यकता है इसके लिए हम सभी को आपस मे मिलकर विकास कार्यो को नई दिशा देनी होगी।
अपने सम्बोधन मंे जिलाधिकारी दीपेन्द्र कुमार चौधरी ने सभी को राज्य स्थापना वर्षगांठ की बधाई देते हुये गोष्ठी मे बहुमूल्य विचार रखने के लिए सभी आन्दोलनकारियों, गणमान्यो का आभार व्यक्त किया।
कार्यक्रम को पूर्व विधायक सरिता आर्या, नारायण सिह जंत्वाल, डा0 अजय रावत, लक्ष्मण लोहनी, हरीश भटट, पूरन मेहरा, दिनेश मेहता, मुन्नी तिवारी, मनोज जोशी,राजीव लोचन साह ने सम्बोधित किया।
कार्यक्रम में शान्ति मेहरा, डीएन भटट, गोपाल रावत, मोहनपाल, राजेन्द्र सिह केडा, अभिषेक मेहरा, दयाकिशन पोखरिया, खष्टी विष्ट, जहूर आलम, महेश जोशी, सुन्दर सिह नेगी, पानसिह रौतेला, भानू पंत, बिमला अधिकारी, कुन्दन सिह विष्ट सहित आरएफसी कुमायू ललित मोहन रयाल, अपर जिलाधिकारी बीएल फिरमाल,संयुक्त मजिस्टेट अभिषेक रूहेला,मुख्य विकास अधिकारी बालकृष्ण सहित अनेक गणमान्य, राज्य आन्दोलनकारी एवं अधिकारी आदि मौजूद थे।