राज्य

गन्ना पर्चियो में गड़बड़ी की एसआईटी जांच के निर्देश

देहरादून। (एनयूजे न्यूज़ सर्विस)
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने डोईवाला शूगर मिल में गन्ना पर्ची(बुके) में गड़बड़ी के मामले में एस आई टी से जांच के आदेश दिये हैं।
डोईवाला शूगर मिल से वर्ष 16/17 के पेराई सत्र से शीघ्र प्रजाति की 8 बुके(गन्ना पर्चियां) गुम हो गई थी। इसके बाद मिल से संबधित बाहय गन्ना क्रय केंद्र धनोरी /जस्सोवाला व tantawala के संबंधित किसानों द्वारा गुम हुई गन्ना पर्चियां उपलब्ध कराई गई।
तब पता चला कि जो गन्ना पर्चियां चोरी हुई थी उन पर्चियो के जरिये गन्ना आपूर्ति कराई गई। इस मामले में उक्त बाहय गन्ना क्रय केंद्र पर टोल लिपिक सीजनल हरबीर सिंह पुत्र प्रेम सिंह द्वारा गन्ना टोल का कार्य किया जा रहा था। जबकि गन्ना लेखाकार रमेश कुमार सिंह के नियंत्रण में उक्त चोरी हुई गन्ना पर्चियां थी। उन्हें लापरवाही में निलंबित कर दिया गया। हरबीर सिंह के खिलाफ एफ आई आर दर्ज की गई है।
इस प्रकरण में जी एम उत्त्तराखंड शूगर फेडरेशन को जांच अधिकारी नामित किया गया है। उन्होंने सरकार को प्रकरण की जांच रिपोर्ट दी।
जी एम की जांच रिपोर्ट के आधार पर गन्ना पर्चियां चोरी कर गन्ना आपूर्ति करने को मुख्यमंन्त्री ने काफी गंभीरता से लेते हुए पूरे मामले में गड़बड़ी की जांच एस आई टी कराने के आदेश दिए हैं।
मुख्यमंन्त्री को बताया गया कि टोल लिपिक हर 15 दिन में बदला जाता है।पर यहाँ टोल लिपिक की ड्यूटी निर्धारित समय मे नही बदली गई। इसे भी मुख्यमंन्त्री ने गंभीरता से लिया है। गन्ना पर्चियो में गड़बड़ी की शिकायत शासन को गन्ना किसानों से मिली थी।