अपना शहर

ग्रामीणों ने निकायों मे शामिल ना होने को लेकर जताया आक्रोश

नैनीताल - भीमताल ब्लॉक क्षेत्रान्तर्गत भीमताल निकाय से सटी ग्राम पंचायतों को भवाली पालिका और भीमताल नगर पंचायत में शामिल किये जाने को लेकर ग्रामीणों द्वारा विरोध किया जा रहा है, और सभी जनप्रतिनिधि एवं जनता इस निर्णय के विरोध में लामबंद हो गए हैं।
भवाली पालिका और भीमताल नगर पंचायत के आस- पास से सटी ग्राम पंचायतों का विलय करने को लेकर ग्रामीण पिछले कई दिनों से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, और सर्कार के इस निर्णय को लेकर ग्रामीणों में बेहद रोष है। जिसके चलते क्षेत्र के जन प्रतिनिधियों ने जिला मुख्यालय में जोरदार प्रदर्शन कर सरकार को अंजाम भुगतने की चेतावनी दी।
जिला पंचायत सदस्य डॉ. हरीश बिष्ट और ब्लॉक प्रमुख गीता बिष्ट के नेतृत्व में बड़ी संख्या में प्रधान और बीडीसी सदस्य जिला मुख्यालय पहुंचे। इस दौरान उन्होंने सरकार के निकायों के विस्तार वाले फैसले के विरोध में हाथों में तख्तियां उठार्इ थी। सभा में वक्ताओं ने कहा कि सरकार गांवों का वजूद मिटाने को आमादा है। निकायों में शामिल होने से ग्रामीणों पर टैक्स लादे जाएंगे, मनरेगा खत्म होगी।
उनका कहना है कि शहरीकरण से गंदगी बढ़ेगी और यहां की संस्कृति भी प्रभावित होगी। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर सरकार ने जबरन गांवों को निकाय में शामिल किया तो आंदोलन के साथ ही कोर्ट का सहारा लिया जाएगा।
बेलुवाखान – ज्योलीकोट ग्राम पंचायत के ग्राम प्रधान श्री हिमांशु पाण्डेय ने कहा की जब निकाय अपने क्षेत्रान्तर्गत आने वाले वार्डों की सही देखरेख नहीं कर पाते हैं तो ऐसे में ग्राम पंचायतों के अंतर्गत विकास की बात करना बेमानी है. यह सरकार का मात्र ग्रामीणों को दिखावा और धोखे के सिवा कुछ नहीं.