खेल-जगत

चीन को हरा भारतीय महिला हॉकी टीम ने जीता एशिया कप, विश्व कप के लिए भी किया क्वॉलिफाई

नई दिल्ली. भारतीय हॉकी टीम ने रविवार को महिला एशिया कप के फाइनल में चीन को मात देते हुए खिताब अपने नाम कर लिया है. भारत ने तय समय में मुकाबला 1-1 से ड्रॉ रहने के बाद पेनाल्टी शूटआउट में चीन को 5-4 से मात देते हुए खिताब पर कब्जा जमाया. इस खिताबी जीत के साथ ही भारतीय महिला टीम ने अगले साल इंग्लैंड में होने वाले वर्ल्ड कप के लिए भी क्वॉलिफाई कर लिया है.

इस टूनार्मेंट में भारत की जीत का श्रेय अग्रिम पंक्ति की सफलता को जाता है. भारत ने फाइनल से पहले तक इस टूर्नामेंट में 27 गोल किए थे और उसकी ताकत पेनाल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील करना रही. फाइनल के बाद गोल की संख्या 32 हो गई. एशिया कप में ये भारतीय टीम का दूसरा खिताब है. उसने 2004 में अपनी मेजबानी में जापान को 1-0 से मात देकर खिताब अपने नाम किया था. इसी साल भारतीय पुरुष टीम ने भी एशिया कप पर कब्जा जमाया था. भारतीय टीम चौथी बार इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंची थी.

भारत को ननजोत कौर ने 25वें मिनट में गोल कर 1-0 से आगे कर दिया था. वह जीत के करीब बढ़ रही थी, लेकिन चौथे क्वार्टर में 47वें मिनट में टिनाटियान लु ने पेनाल्टी कॉर्नर को गोल में बदलते हुए मुकाबले में बराबरी कर ली.

इसके बाद दोनों टीमें गोल करने में नाकाम रहीं और मैच पेनाल्टी शूटआउट में गया जहां भारत ने जीत हासिल की. रितू रानी की अगुवाई वाली भारतीय टीम इस पूरे टूर्नामेंट में शानदार फॉर्म में रही. भारतीय टीम इस टूर्नामेंट में अपराजेय रही है.

भारतीय टीम चौथी बार इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंची थी. 1999 में उसे अपनी मेजबानी में फाइनल में दक्षिण कोरिया के हाथों 2-3 की हार मिली थी. हालांकि वह 2004 में इस खिताब को जीतने में कामयाब रहा.

साल 2009 में बैंकॉक में आयोजित हुए टूर्नामेंट में भारतीय टीम ने फाइनल तक का सफर तय किया था, लेकिन चीन ने 5-3 से मात देकर उसके हाथों से खिताब छीन लिया.