अपना शहर

डेंटल सर्जन की नियुक्ति खटाई में पड़ सकती है

नैनीताल-: राज्य के सरकारी अस्पतालों में 203 डेंटल सर्जनों की नियुक्ति एक बार फिर खटाई में पड़ सकती है। सर्जनों की नियुक्ति प्रक्रिया को चुनौती देती याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने मामले को गंभीरता से लेते हुए सरकार और मेडिकल चयन बोर्ड से चार सप्ताह में जवाब मांगा है। साथ ही नियुक्ति प्रक्रिया के बाद चयनित 172 डॉक्टरों को भी नोटिस जारी किया गया है।

डेंटल सर्जन ने पूरी नियुक्ति प्रक्रिया को चुनौती देते हुए दायर याचिका में कहा गया है कि सरकार की नियुक्ति प्रक्रिया नियम विरुद्ध है। नियमावली के मुताबिक ये नियुक्तियां केवल साक्षात्कार के आधार पर होनी थी, जबकि सरकार ने इसके लिए लिखित परीक्षा भी करा दी।

सरकार ने 22 जनवरी 2017 को डेंटल सर्जन की नियुक्ति के लिए लिखित परीक्षा कराई थी, जबकि लिखित परीक्षा संबंधी आदेश परीक्षा के तीन महीने बाद 25 अप्रैल 2017 को निकाला। याचिकाकर्ता डॉ. पल्लवी पाटनी और अन्य ने याचिका दायर कर कहा है कि सलेक्शन नियमावली को सरकार नहीं बदल सकती। मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस केएम जोसफ और न्यामूर्ति वीके बिष्ट की खंडपीठ में हुई।