अपना शहर

नैनीताल

प्रो0जी0एल0 साह
2. अंततः 3 अक्टूबर 1850 में नैनीताल म्यूनिसिपल बोर्ड का औपचारिक गठन हुआ जो कि उ0प्र0 प्रोविन्स की दूसरी बड़ी म्यूनिसिपल बोर्ड थी। प्रथम कमेटी में मेजर जनरल रिचर्ड, कुमाऊँ कमिश्नर लूशिंगटन, मेजर अर्नाउड, कैप्टन वाॅ एवं मनोनीत सदस्य मि0 बैरन शामिल थे। प्रारम्भ में कुमाऊँ कमिश्नर बोर्ड के पदेन अध्यक्ष होते थे। बाद में 1901 के शासकीय आदेश के आधार पर 11 सदस्यीय बोर्ड में डिप्टी कमिश्नर पदेन अध्यक्ष तथा संयुक्त मजिस्ट्रेट तथा जिला इन्जिनियर पदेन सदस्य, 3 मनोनीत सदस्य एवं 5 चयनित सदस्य (जिसमें 2 भवन स्वामी, 1 किरायेदार तथा 2 सर्व साधारण का प्रतिनिधित्व करते) थे बोर्ड का कार्यकाल तीन वर्ष निश्चित था।
संदर्भ
1. एटकिन्सन ई. टी., (1882) हिन्दी हिमालयन गजेटियर, उत्तराखण्ड प्रकाशन आदिबद्री, चमोली, 1998।
2. भट्ट मदन चन्द्र: कुमाऊँनी जागरों की नायिका- जियारानी, नन्दा भारती, शरदोत्सव नैनीताल 1991, पृष्ठ 61-64।
3. दैनिक जागरण समाचार पत्र, फरवरी 2006 अंक-22, पेज-1।
4. जी.डब्लू.ट्रेल-1828, स्टैटिस्टिल स्कैच आॅफ कुमाऊँ, एशियाटिक रिसर्चर्स आॅन ट्रांसेक्सन्स आॅफ द सोसाइटी, वाॅल्यूम 16, कलकत्ता,
5. खोलिया मधु सूदन - भट्ट मदन चन्द्र 1991, ऐसे बना नैनीताल, नन्दा भारती, शरदोत्सव नैनीताल, पृष्ठ 35।
6. पाण्डे गोपाल दत्त-1998 (मानस खण्ड-संपादित 1989), शरद नन्दा, पृष्ठ 3 एवं 4।
7. पिलग्रिम-1844, नोट्स आॅफ द वांडरिंग इन द हिमाला, आगरा अखबार प्रेस, आगरा।
8. पहाड़ -अंक 5, 6 एवं 9, परिक्रमा, तल्ला डांडा, तल्लीताल, नैनीताल।
9. भट्ट मदन चन्द्र - 2012
10. पहाड़ पोथी परिक्रमा, तल्ला डांडा, तल्लीताल, नैनीताल। (पृष्ठ 51)