राज्य

पत्रकार सुरक्षा कानून के लिये एनयूजे (उत्तराखण्ड) की पहल पर कार्यवाही प्रारंभ’

उत्तराखण्ड के प्रमुख मीडिया संगठन नेशनलिस्ट यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स द्वारा मुख्यमंत्री से राज्य में पत्रकार सुरक्षा कानून लागू करने की मांग करने पर कार्यवाही प्रारंभ हो गई है। मुख्यमंत्री के निर्देश पर मुख्यमंत्री कार्यालय के उप सचिव गिरीश चन्द्र जोशी द्वारा सूचना विभाग के सचिव को मामले में आवश्यक कार्यवाही करने के लिये पत्र भेजा गया है।

यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष त्रिलोक चन्द्र भट्ट द्वारा उत्तराखण्ड में लगातार पत्रकार उत्पीड़न और उन पर हमले की घटनाओं की वृद्धि का मामला उठाते हुए राज्य में पत्रकार सुरक्षा कानून लागू करने की मांग मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत सहित उनकी कैबीनेट के सहयोगी मंत्रियों और भाजपा-कांग्रेस सहित प्रमुख राजनैतिक दलों के अध्यक्षों से की थी। राज्य के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने भी श्री भट्ट के पत्र का संज्ञान लेकर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत को पत्र भेजकर पत्रकार सुरक्षा कानून लागू करने के संबंध में संबंधित को निर्देशित करने का आग्रह किया है। इसी क्रम में राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार ) रेखा आर्य ने भी नेशनलिस्ट यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स के प्रदेश अध्यक्ष के पत्र पर कार्यवाही करते हुए मुख्यमंत्री से उत्तराखण्ड के पत्रकारों के लिये पत्रकार सुरक्षा कानून लागू किये जाने के साथ ही पत्रकारों, मीडिया कर्मियों एवं मीडिया संस्थानों को सुरक्षा प्रदान करने के लिये पार्टी, सरकार, मंत्रीमंडल की बैठक में निर्णय पारित लेने तथा विधान सभा में संकल्प/प्रस्ताव पारित कराये जाने हेतु सहानुभूतिपूर्वक विचार करने का आग्रह किया है।

नेशनलिस्ट यूनियन आॅफ जर्नलिस्ट्स के प्रदेश अध्यक्ष त्रिलोक चन्द्र भट़ट ने कहा कि बीते कुछ वर्षों में देश के अन्य प्रान्तों की भांति उत्तराखण्ड में भी मीडिया कर्मियों के उत्पीड़न और हमले की घटनाओं में काफी वृद्धि हुई है, जिससे पत्रकारों में असुरक्षा की भावना उत्पन्न हो रही है। अतः उत्तराखण्ड में भी महाराष्ट्र की तर्ज पर पत्रकार सुरक्षा कानून लागू किये जाने की आवश्यकता है।