देश

रन फॉर यूनिटी कार्यक्रम मे बोले मोदी - नयी पीढ़ी को उनके नाम से परिचय नहीं कराया गया

नयी दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार वल्लभ भाई पटेल की 142 वीं जयंती पर आज यहां हरी झंडी दिखा कर रन फॉर यूनिटी की शुरुआत की. मेजर ध्यान चंद राष्ट्रीय स्टेडियम से शुरू हुई इस रन फॉर यूनिटी में कर्णम मल्लेश्वरी, दीपा करमाकर, सरदार सिंह और सुरेश रैना जैसी खेल जगत की प्रख्यात हस्तियों सहित बडी संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया. कुल 1.5 किमी की यह दौड इंडिया गेट तथा शाहजहां रोड के पास बने सी-हेग्सागन पर समाप्त हुई. इस मौके पर दिल्ली में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह पटेल चौक स्थित सरदार पटेल की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की.

सरदार पटेल ने अपने जीवन को देश की आजादी के लिए खपा दिया. आजादी के बाद भी सरदार पटेल ने अपने कौशल्य और शक्ति के द्वारा देश को संकटों को बचाया और देश को एक सूत्र में बांधा. सरदार पटेल ने साम-दाम-दंड-भेद, कूटनीति और रणनीति के जरिये देश को एक सूत्र में बांधा. सरदार पटेल को हमारी देश की युवा पीढ़ी से परिचित नहीं कराया, इतिहास के झरोखे से इस महापुरुष के नाम को मिटाने की कोशिश की गई.

सरदार ने किस तरह पूरे देश को एक किया, इसका पता हर पीढ़ी को पता होना चाहिए. जब सरदार साहब की जयंती को 150 साल होंगे, उस समय हमें देश की एकता को और भी आगे बढ़ाना होगा. 2022 में आजादी को 75 साल हो रहे हैं, हम सभी को एक संकल्प लेना चाहिए और उसे पूरा करना चाहिए.

गौरतलब है कि केंद्र में मोदी सरकार आने के बाद हर साल सरदार पटेल की जयंती मनायी जाती है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे पर्व का रूप दे दिया है. कई राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि गांधी परिवार से इतर कांग्रेस के बड़े नेताओं को मोदी प्रतीक के रूप में इस्तेमाल करते हैं. आज पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की भी पुण्यतिथि भी है. इस मौके पर पूर्व प्रधाममंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने शक्ति स्थल पर श्रद्धांजलि दी.