अपना शहर

सघन मिशन इंद्रधनुष अभियान की विधिवित शुरूआत की मदन कौशिक ने

हरिद्वार। विशेष प्रतिनिधि- सघन मिशन इंद्रधनुष के लिए चयनित हरिद्वार जनपद में अभियान की विधिवित शुरूआत कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने ऋषिकुल आयुर्वेद काॅलेज से की। मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि के रूप में यहां पहुंचे मंत्री श्री मदन कौशिक की उपस्थिति में एएनएम ने 0 से 2 वर्ष तक के बच्चों का टीकाकरण किया। भारत सरकार ने देश में टीकाकरण की स्थिति को बेहतर बनाने के लिए चिन्हित राज्यों तथा शहरों में शिशु अवस्था में होने वाले रोगों और संक्रमण का स्तर शून्य करने के उद्देश्य से सघन मिशन इंद्रधनुष अभियान को अधिक प्रभावी ढंग से कार्यान्वित किया है। सरकार का उद्देश्य देश भर में बच्चों को जन्म के बाद पहले व दूसरे वर्ष के दौरान होने वाले जरूरी टीकारण को दिसंबर 2018 की निर्धारित समय सीमा के अंदर 90 प्रतिशत तक पूर्ण टीकाकरण का प्राप्ति लक्ष्य दिया गया है। जनपद हरिद्वार में टीकाकरण की स्थित में सुधार लाने के लिए जनपद का चयन किया गया है। जनपद में अभियान की शुरूआत करते हुए मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि उत्तराखण्ड में मात्र हरिद्वार ही अभी बच्चों के पूर्ण टीकाकरण से आच्छाादित नहीं है। ऐसे में हम सभी का दायित्व है कि हरिद्वार को निधारित प्रतिशत के लक्ष्य प्राप्ति कर अपने राज्य का सम्मान बढ़ायें। इस अभियान की महत्वपूर्ण कड़ी आशा कार्यकत्रियों तथा एएनएम को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के सर्वे से जो आंकड़े प्राप्त हुए हैं उनके अनुसार हरिद्वार जिले के लगभग पंद्रह हजार बच्चे टीकाकरण से वंचित हैं, जिनको मिशन के तहत टीकाकरण किया जाना है। इन बच्चों में से एक भी बच्चा टीकाकरण से न छूट पाये तभी अभियान की सफलता है। टीकाकरण अभियान के लिए सरकार के स्तर से किये जाने वाले वैक्सीन और मेडिसिन की आपूर्ति सम्बंधि किसी भी जरूरत को पूरा करने के लिए सरकार ने पूरी तैयारी कर ली है। मिशन को सफल परिणिति तक ले जाने के लिए जन सहयोग एक महत्वूपर्ण बिन्दु है। इसके आगे के कार्य में मुख्य भूमिका स्वास्थ्य विभाग, आशा वर्कर तथा एएनएम की है। उन्होंने आशा वर्करर्स से प्रत्येक बच्चे को घर से शिविर तक लाने तथा टीकाकरण हो यह सुनिश्चित करने का दायित्व पूरा करने की अपील की। उन्होंने कहा कि आपकी अपनी समस्यायें और मांगे सरकार से जो भी हैं उनका प्रभाव अभियान पर न पड़ने दें क्योंकि यह किसी बच्चे को जीवन भर के लिए स्वस्थ बनाने का अभियान है। आपके इस प्रयास से ये बच्चे एक स्वस्थ जीवन और उज्ज्वल भविष्य को पा सकते हैं। यदि हम अभियान को मांत्र आंकड़ो और लक्ष्य प्रतिशत प्राप्किे नजरिये से देखेंगे तो वह अभियान की वास्तविक सफलता नहीं होगी। श्री कौशिक ने कहा कि देश का स्वास्थ्य सुधार, आर्थिक सुधार किसी धर्म जाति या समुदाय का सुधार नहीं राष्ट्र का सुधार है। यदि हमारे बच्चे पूर्ण टीकाकरण से युक्त होंगे तो वह केवल एक बच्चे का स्वास्थ्य सुधार नहीं बल्कि हमारे समाज और राष्ट्र के स्वास्थ्य को परिलक्षित करेगा। मिशन निदेशक चंद्रेश कुमार ने कहा कि मिशन को अधिक प्रभावी बनाने के लिए हमें आशा वर्कर और एएनएम से विशेष सहयोग और सहभागिता की आवश्यकता होगी। जिस प्रकार एक इंद्रधनुष सात रंगो को समाहित रखता है वैसे ही हमारे इस एक मिशन से भी बच्चों में होने वाली अनेक प्रकार की बीमारियों से बचाने का कार्य किया जाना है। जिलाधिकारी दीपक रावत ने कहा कि जनपद का वर्तमान टीकाकरण 85 प्रतिशत है। अब इस मिशन के माध्यम से सभी एक साथ मिलकर प्रयास करेंगे हम टीकाकरण में छूटे हुए शेष प्रतिशत का लक्ष्य हासिल करने में निश्चित रूप से सफल होगें । टीकाकरण से छूट गये 15 हजार बच्चों को चिहिन्त कर टीकाकरण कराया जायेगा। इस अवसर पर स्वास्थ्य महानिदेशक अर्चना श्रीवास्तव, डा. भारती राणा, मुख्य चिकित्सा अधिकारी रविंद्र थपलियाल, बीजेपी जिला उपाध्यक्ष नरेश शर्मा, विकास तिवारी, डा. आरिफ, डा. अजय, डा. एसडी शाक्य, डा. अशोक कुमार सहित अनेक लोग उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन डा. पाण्डे तथा नरेश चैधरी ने संयुक्त रूप से किया।।